LIFE OF HC MINISTERIAL IN CRPF GROUP CENTER

Life of HC Ministerial in CRPF Group Center,  Life of CRPF in Group Center, Life of CRPF Personnel in Group Center, Life of CRPF HC MinistCRPF Group Center

CRPF Group Center में हवलदार मंत्रालय की लाईफ कैसी होती है?

CRPF Group Center में हवलदार मंत्रालय की लाईफ कैसी होती हैः वहां लोग कैसे रहते हैं और कितने बजे ऑफिस जाते हैं ऐसे ही बहुत सारे प्रश्नों के जबाव आपके लिये लाया हूं। ग्रुप सेंटर में ऑफिस सुबह साढ़े नौ बजे से खुलता है और दोपहर एक बजे तक चलता है। 01 बजे लंच हो जाता है फिर 02 बजे फिर ऑफिस में आना होता है और 1730 Hrs  शाम साढ़े पांच बजे तक ऑफिस चलता है। दिन में सिर्फ 01 घंटे का ही समय मिलता है जिसमें आप या तो खाना खा लो या फिर आराम ही कर लो, क्योंकि कोई भी व्यक्ति लगातार काम नहीं कर सकता है दिन में थोड़ा आराम भी करने की जरूरत होती है।

Also read : CRPF द्वारा किये गये एनकाउंटर की अनदेखी तस्वीरें

मैं हवलदार मंत्रालय का उदाहरण लेता हूं कि हवलदार मंत्रालय की दैनिक लाईफ ग्रुप सेंटर में कैसी होती है। ज्यादातर ग्रुप सेंटर में सोमवार या शुक्रवार को परेड होती है जिसके लिये सुबह 6 बजे ग्राउण्ड में उपस्थित होना होता है तो आपको लगभग 05 या साढ़े 05 बजे उठना होता है और ग्राउण्ड में पहुंचकर 8 बजे तक परेड करनी होती है। यह परेड सभी ग्रुप सेंटर में नहीं होती है। जिस ग्रुप सेंटर का डी.आई.जी मंत्रालय विभाग के कर्मचारियों से परेड करवाना चाहता है तो वह करवा सकता है। काफी ग्रुप सेंटर में डी.आई.जी नहीं चाहता है कि मंत्रालय विभाग के कर्मचारी परेड में आयें क्योंकि वह तो केवल ऑफिस के काम के लिये भर्ती हुये हैं, तो वह उनसे सिर्फ ऑफिसियल वर्क ही करवाता है।

CLICK HERE TO VISIT CRPF OFFICIAL SITE : 

सुबह कितने बजे उठना पड़ता है ?

वैसे तो सभी लोगों का सुबह उठने का अपना टाइम होता है कोई सुबह 5 बजे उठ जाता है तो कोई 9 बजे तक सोता रहता है। CRPF Group Center में आपको साढ़ें नौ बजे तक कोई कुछ बोलने वाला नहीं होता है आपको करेक्ट साढ़े नौ बजे ऑफिस में पहुंचना होता है यदि आप थोड़े से भी लेट हुए तो अधिकारी आपको कुछ भी कह सकता है। ज्यादातर लोग 7 या 8 बजे तक उठ जाते हैं क्योंकि आजकल के लोग मोबाईल में ही 12 या 1 बजे तक लगे रहते हैं तो रात में लेट सोते हैं और फिर सुबह लेट तक उठते हैं। सुबह उठने के बाद दैनिक क्रियांयें करके आप साढ़े नौ बजे ऑफिस में पहुंच जाते हैं फिर ऑफिस में आपको दिये गये कार्यों को करना होता है। ऑफिस में कार्य कैसा करवाया जाता है इस संबंध में जल्दी ही एक पोस्ट लिखूंगा।

लंच कितने बजे होता है ?

ग्रुप सेंटर में सभी लोग टाइम के बहुत पक्के होते हैं इसलिये वह दोपहर करेक्ट एक बजे लंच के लिये निकल जाते हैं और करेक्ट 2 बजे ऑफिस में पहुंच भी जाते हैं। इस एक घंटे के बीच में आप खाना खाने में ही आधा घंटा लगा देंगे और लगभग 15 -20 मिनट आराम करके वापस ऑफिस में लौटते हैं। फिर शाम साढ़े पांच बजे तक आपको ऑफिस का ही काम करना होता है।

आप ऑफिस में कितने बजे आ रहे हो ये तो हर कोई पूंछेगा लेकिन कितने बजे जा रहे हो यह कोई नहीं देखता। CRPF Group Center में यदि आपके पास ज्यादा काम है तो यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप काम को कितने समय में निपटा पाते हैं। यदि आपको लगता है कि काम ज्यादा अर्जेन्ट है तो आप साढ़े पांच बजने के बाद भी ऑफिस में बैठ सकते हैं । रात में कितने बजे तक भी बैठो कोई कुछ नहीं पूंछने आयेगा हां सुबह साढ़े नौ बजे उपस्थित होते हुए सभी देखना चाहते हैं। इसलिये जिन लोगों को ज्यादा काम रहता है वह छः या सात बजे तक ऑफिस में बैठते हैं उसके बाद अपने क्वार्टर या बैरक में चले जाते हैं। वैसे ज्यादातर लोग करेक्ट साढ़े पांच बजे ऑफिस से चले जाते हैं।

Group Center के बाहर जा सकते हैं या नहीं ?

CRPF Group Center में जो लोग अपने परिवार के साथ ग्रुप सेंटर में रहते हैं उनको एक सरकारी क्वार्टर दिया जाता है जो कि उस ग्रुप सेंटर कैम्पस के अन्दर ही होते हैं। ऑफिस से काम करने के बाद आप शाम को ग्रुप सेंटर के बाहर भी जा सकते हैं और बाजार में घूम भी सकते हैं जबकि बटालियन में ऐसा नहीं है। इसीलिये तो ग्रुप सेंटर में लाइफ जीने का अलग ही मजा है।

Also read : CRPF से रिजाइन देने पर कितना रूपया जमा करना पड़ता है ?

जिन लोगों की शादी नहीं हुई है वह लगो बैरकों में रहते हैं जहां पर सभी जवान एक साथ रहते हैं ये बैरकें भी ग्रुप सेंटर कैम्पस के अन्दर ही बनी हुई होती हैं जहां पर सारी व्यवस्थायें होती हैं जैसे कि पानी, बिजली, बाथरूम आदि। ऑफिस से आने के बाद आपको कोई भी नहीं पूंछेगा कि आपको कहां जाना है क्या करना है। आप साढ़े पांच बजे के बाद फ्री हो जाते हैं फिर आपको जो करना है वह करो । यदि आपका मन बाहर जाने का कर रहा है तो आप जा सकते हैं उसके लिये कोई रोक टोक नहीं होती है। हां कुछ जगह जहां पर आतंकवादी गतिविधियां ज्यादा होती है वहां पर आपको रोका जा सकता है।

Also read : कैसे मैं CRPF में HC Ministerial के पद पर भर्ती हुआ ?

फिर सुबह साढ़े नौ बजे से ऑफिस। बस यही चलता रहता है और फिर तीन साल बाद ट्रांसफर हो जाता है। दोस्तों सी.आर.पी.एफ के ग्रुप सेंटर में लाइफ जीने का तभी मजा आता है जब आपके साथ आपका परिवार रहता है। अकेले ग्रुप सेंटर में मजा नहीं आता है। आपको यह पोस्ट कैसी लगी यदि आपको कोई प्रश्न है तो आप पूंछ सकते हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपना प्रश्न टाइप कीजिये मैं उसका जबाव देने की कोशिश करूंगा।

जय हिंद।

Please follow and like us:
14 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *