A CRPF Commando with rifle intimate that CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER

CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER | ग्रुप सेंटर में CRPF HCM की लाईफ कैसी होती है? Free Details 2023

आज हम इस पोस्ट में CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER के बारे में जानेंगे। ग्रुप सेंटर में लोग कैसे रहते हैं और कितने बजे ऑफिस जाते हैं ऐसे ही बहुत सारे प्रश्नों के जबाव आपके लिये लाया हूं। ग्रुप सेंटर में ऑफिस सुबह साढ़े नौ बजे से खुलता है और दोपहर एक बजे तक चलता है।

01 बजे लंच हो जाता है फिर 02 बजे फिर ऑफिस में आना होता है और 1730 Hrs  शाम साढ़े पांच बजे तक ऑफिस चलता है। दिन में सिर्फ 01 घंटे का ही समय मिलता है जिसमें आप या तो खाना खा लो या फिर आराम ही कर लो, क्योंकि कोई भी व्यक्ति लगातार काम नहीं कर सकता है दिन में थोड़ा आराम भी करने की जरूरत होती है।

Group Center में पीटी परेड होती है क्या?

मैं हवलदार मंत्रालय का उदाहरण लेता हूं कि CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER में कैसी होती है। ज्यादातर ग्रुप सेंटर में सोमवार या शुक्रवार को पीटी परेड होती है जिसके लिये सुबह 6 बजे ग्राउण्ड में उपस्थित होना होता है तो आपको लगभग 05 या साढ़े 05 बजे उठना होता है और ग्राउण्ड में पहुंचकर 8 बजे तक परेड करनी होती है।

A big buildiing of CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER in GC Gwalior
CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER

यह परेड सभी ग्रुप सेंटर में नहीं होती है। जिस ग्रुप सेंटर का डी.आई.जी मंत्रालय विभाग के कर्मचारियों से परेड करवाना चाहता है तो वह करवा सकता है। काफी ग्रुप सेंटर में डी.आई.जी नहीं चाहते हैं कि मंत्रालय विभाग के कर्मचारी परेड में आयें क्योंकि वह तो केवल ऑफिस के काम के लिये भर्ती हुये हैं, तो वह उनसे सिर्फ ऑफिसियल वर्क ही करवाते हैं।

सुबह कितने बजे उठना पड़ता है?

वैसे तो सभी लोगों का सुबह उठने का अपना टाइम होता है कोई सुबह 5 बजे उठ जाता है तो कोई 9 बजे तक सोता रहता है। CRPF Group Center में आपको करेक्ट साढ़े नौ बजे ऑफिस में पहुंचना होता है यदि आप थोड़े से भी लेट हुए तो अधिकारी आपको कुछ भी कह सकते हैं।

ज्यादातर लोग 7 या 8 बजे तक उठ जाते हैं क्योंकि आजकल के लोग मोबाईल में ही 12 या 1 बजे तक लगे रहते हैं तो रात में लेट सोते हैं और फिर सुबह लेट तक उठते हैं। सुबह उठने के बाद दैनिक क्रियांयें करके आप साढ़े नौ बजे ऑफिस में पहुंच जाते हैं फिर ऑफिस में आपको दिये गये कार्यों को करना होता है।

लंच कितने बजे होता है?

ग्रुप सेंटर में सभी लोग टाइम के बहुत पक्के होते हैं इसलिये वह दोपहर करेक्ट एक बजे लंच के लिये निकल जाते हैं और करेक्ट 2 बजे ऑफिस में पहुंच भी जाते हैं। इस एक घंटे के बीच में आप खाना खाने में ही आधा घंटा लगा देंगे और लगभग 15 -20 मिनट आराम करके वापस ऑफिस में लौटते हैं। फिर शाम साढ़े पांच बजे तक आपको ऑफिस का ही काम करना होता है।

आप ऑफिस में कितने बजे आ रहे हो ये तो हर कोई पूंछेगा लेकिन कितने बजे जा रहे हो यह कोई नहीं देखता। यदि आपके पास ज्यादा काम है तो यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप काम को कितने समय में निपटा पाते हैं। यदि आपको लगता है कि काम ज्यादा अर्जेन्ट है तो आप साढ़े पांच बजने के बाद भी ऑफिस में बैठ सकते हैं।

रात में कितने बजे तक भी बैठो कोई कुछ नहीं पूंछने आयेगा हां सुबह साढ़े नौ बजे उपस्थित होते हुए सभी देखना चाहते हैं। इसलिये जिन लोगों को ज्यादा काम रहता है वह छः या सात बजे तक ऑफिस में बैठते हैं उसके बाद अपने क्वार्टर या बैरक में चले जाते हैं। वैसे ज्यादातर लोग करेक्ट साढ़े पांच बजे ऑफिस से चले जाते हैं।

Group Center के बाहर जा सकते हैं या नहीं ?

CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER
CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER

CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER में जो लोग अपने परिवार के साथ ग्रुप सेंटर में रहते हैं उनको एक सरकारी क्वार्टर दिया जाता है जो कि उस ग्रुप सेंटर कैम्पस के अन्दर ही होते हैं। ऑफिस से काम करने के बाद आप शाम को ग्रुप सेंटर के बाहर भी जा सकते हैं और बाजार में घूम भी सकते हैं जबकि बटालियन में ऐसा नहीं है। इसीलिये तो ग्रुप सेंटर में लाइफ जीने का अलग ही मजा है।

जिन लोगों की शादी नहीं हुई है वह लगो बैरकों में रहते हैं जहां पर सभी जवान एक साथ रहते हैं। ये बैरकें भी ग्रुप सेंटर कैम्पस के अन्दर ही बनी हुई होती हैं जहां पर सारी व्यवस्थायें होती हैं जैसे कि पानी, बिजली, बाथरूम आदि। ऑफिस से आने के बाद आपको कोई भी नहीं पूंछेगा कि आपको कहां जाना है क्या करना है।

Hard Area में भी बाहर जा सकते हैं क्या?

CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER इतनी ज्यादा हार्ड नहीं होती है जितनी कि बटालियन में होती है। ग्रुप सेंटर में आप साढ़े पांच बजे के बाद फ्री हो जाते हैं फिर आपको जो करना है वह कर सकते हैं। यदि आपका मन बाहर जाने का कर रहा है तो आप जा सकते हैं उसके लिये कोई रोक टोक नहीं होती है। हां कुछ जगह जहां पर आतंकवादी गतिविधियां ज्यादा होती है वहां पर आपको रोका जा सकता है।

फिर सुबह साढ़े नौ बजे से ऑफिस। बस यही चलता रहता है और फिर तीन साल बाद ट्रांसफर हो जाता है। दोस्तों आर.पी.एफ के ग्रुप सेंटर में लाइफ जीने का तभी मजा आता है जब आपके साथ आपका परिवार रहता है। अकेले ग्रुप सेंटर में मजा नहीं आता है। आपको यह पोस्ट कैसी लगी यदि आपको कोई प्रश्न है तो आप पूंछ सकते हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपना प्रश्न टाइप कीजिये मैं उसका जबाव देने की कोशिश करूंगा। अधिक जानकारी के लिये CRPF की बेवसाईट पर विजिट कर सकते हैं।

जय हिंद।

इस पोस्ट के बारे में CRPF HCM LIFE IN GROUP CENTER विस्तार से बताने की कोशिश की है। इसी प्रकार की और भी जानकारी के लिये बेवसाईट पर विजिट करें।

Also read : CRPF HCM LIFE IN BATTALION | बटालियन में CRPF HCM की लाईफ कैसी होती है? Free Jankari 2023

Also read : CRPF me kitni chhuttiya milti hai? Genuine Details of CRPF Leaves 2023

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *