Top 5 placses to visit in etawah

Top 5 Places to Visit in Etawah Best Tourist Places in Etawah

Top 5 Places to visit in Etawah : इटावा उत्तर प्रदेश का एक जिला है जो कि विभिन्न कारणों से अक्सर चर्चा में बना रहता है। इटावा में कौन कौन सी जगह हैं जहां पर लोग अपने परिवार के साथ घूम सकते हैं। आज हम आपको Top 5 Places to Visit in Etawah के बारे में बताने जा रहे हैं।

Etawah Safari Park

Etawah Safari Park

टावा सफारी पार्क को Lion Safari के नाम से भी जाना जाता है। लोग पहले इसे Lion Safari के नाम से ही जानते थे लेकिन अब इसका नाम बदलकर Etawah Safari Park रखा गया है। यह पार्क 350 हैक्टेयर में फैला हुआ है एवं एशिया के सबसे बड़े सफारी पार्कों में से एक अलग ही स्थान रखता है।

इटावा में लॉयन सफारी बनवाने का सपना था उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री माननीय श्री अखिलेश यादव जी का। जब से उन्होंने इटावा में इटावा सफारी पार्क को बनवाया है तब से लोगों को इटावा के बारे में जानने का मौका मिला। दूर दूर से लोग इटावा घूमने आते हैं और यहां की खासियत को देखते हैं।

विकीपीडिया से मिली जानकारी के अनुसार इटावा उत्तर प्रदेश का 26 वां सबसे ज्यादा आबादी वाला जिला है। वैसे तो इटावा जिला जमुनापार बकरी / भैंसों के दूध के लिये प्रसिद्ध है लेकिन वह पुराना समय था। समय के साथ काफी बदलाव आ जाता है। इसीलिये आज के समय में इटावा जो कि पहले इष्टिकापुरी के नाम से जाना जाता था आज वह इटावा के नाम से जाना जाता है।

इटावा में बहुत सी हस्तियों ने जन्म लिया है और यहां के स्कूलों में पढ़ाई भी की है। भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ0 राजेन्द्र प्रसाद इटावा के प्रसिद्ध स्कूल इस्लामियां इंटर कॉलेज में पढ़े थे और वह भारत के राष्ट्रपति बने। इसी तरह माननीय श्री मुलायम सिंह यादव जो कि पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे वह कभी भारत के रक्षामंत्री भी रहे थे। वर्तमान में उनके पुत्र श्री अखिलेश यादव जी समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ते हैं और मुख्यमंत्री पद का कार्यभार ग्रहण किया था।

Etawah Lion Safari के अन्दर हिरन सफारी , मृग सफारी, भालू सफारी, तेन्दुआ सफारी एवं लॉयन सफारी हैं तथा इसके अतिरिक्त छोटे छोटे जानवर भी देखने को मिलते हैं।

Etawah Lion Safari Park

लॉयन सफारी

बब्बर शेर भी देखने को मिलते हैं।

हिरन सफारी

भालू सफारी

Panther

तेंदुआ सफारी

मृग सफारी

कैसे पहुंचें

लॉयन सफारी में सड़क और रेल मार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है। निकटतम रेलवे स्टेशन इटावा है । यह लखनऊ, दिल्ली और आगरा से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यह लखनऊ से लगभग 230 किलोमीटरऔर दिल्ली से लगभग 320 किमी दूर है।

By Road:

यह इटावा शहर में स्थित है, जो आगरा से 2 घंटे की ड्राइविंग दूरी पर, राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली से लगभग 5 घंटे की ड्राइविंग दूरी और राज्य की राजधानी लखनऊ से लगभग 3 घंटे की ड्राइविंग दूरी पर एक छोटा शहर है।

राष्ट्रीय राजमार्ग-19, आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे और राष्ट्रीय राजमार्ग-719 इटावा के प्रमुख राजमार्ग हैं। राज्य परिवहन की बसों का एक नेटवर्क इटावा को उत्तर प्रदेश राज्य और आसपास के राज्यों के सभी प्रमुख शहरों से जोड़ता है।

By Train:

Etawah Lion Safari Park इटावा जंक्शन रेलवे स्टेशन से लगभग 5 किमी दूर है, जो हावड़ा-गया-दिल्ली लाइन के कानपुर-दिल्ली खंड और हावड़ा-दिल्ली मुख्य लाइन पर स्थित है। यह शहर कानपुर नई दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस और लखनऊ स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का स्टेशन है।

By Air:

  • निकटतम हवाई अड्डा (केवल निजी जेट): सैफई (25 किमी दूर)
  • पास के घरेलू हवाई अड्डे: ग्वालियर (108 किमी दूर) और आगरा (128 किमी दूर)
  • सबसे निकट अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे: लखनऊ (225 किमी दूर) और दिल्ली (325 किमी दूर)

Etawah Lion Safari Park का समय

इटावा सफारी प्रत्येक सोमवार को बंद रहती है। टिकट की बुकिंग सुबह 10:00 बजे से शाम 04:00 बजे तक रहती है । सर्दियों के मौसम में ठंड और कोहरे के कारण सफारी के खुलने का समय बदल दिया जाता है।

विवरणसमय
1 अप्रैल से 31 अक्टूबरसुबह 10:00 बजे से शाम 07:00 बजे तक
1 नवंबर से 31 मार्चसुबह 10:00 बजे से शाम 05:00 बजे तक

टिकट की दरें

भारतीय पर्यटक
विवरण12 वर्ष और उससे अधिक6 – 12 वर्ष
प्रवेश और यात्रा शुल्क (INR)  
गैर एसी वाहन20050
एसी वाहन300100
4डी थिएटर शुल्क (INR)150100
कॉम्बो: प्रवेश। टूर और 4डी थिएटर शुल्क
गैर एसी वाहन300120
एसी वाहन400170
Etawah Lion Safari Park Ticket Price for indians
विदेशी पर्यटक
विवरण12 वर्ष और उससे अधिक6- 12 वर्ष
प्रवेश और यात्रा शुल्क (INR)  
गैर एसी वाहन500400
एसी वाहन1000800
4डी थिएटर शुल्क (INR)450300
कॉम्बो: प्रवेश। टूर और 4डी थिएटर शुल्क
गैर एसी वाहन800600
एसी वाहन13001000
Etawah Lion Safari Park Ticket Price

Kali Vahan Mandir

इटावा जिला में मातारानी का एक बहुत ही प्राचीन मन्दिर है जिसको काली वाहन मन्दिर कहते हैं। यह मन्दिर बहुत ही पुराना है और लोगों की मान्यता है कि जो भी व्यक्ति सच्चे मन से माता रानी के दर्शन कर उनका आशीर्वाद लेता है तो उसकी सारी मनोकामना पूरी हो जाती हैं। काली वाहन मन्दिर यमुना नदी के पास स्थित है।

नवरात्रि के समय यहां पर श्रद्धालुओं की बहुत ज्यादा भीड़ होती है। मन्दिर के पास ही एक बाबा भैरवनाथ का भी मन्दिर है। मन्दिर के पुजारी का कहना है कि यदि बाबा भैरवनाथ के दर्शन किये बिना किसी ने माता रानी के दर्शन कर वापस चला गया तो उसकी यात्रा अधूरी रहेगी। इसलिये जो लोग माता रानी के मन्दिर में दर्शन के लिये जाते हैं वह लोग बाबा भैरवनाथ के भी दर्शन जरूर करते हैं। यह मन्दिर इटावा-भिण्ड जाने वाले मार्ग पर पड़ता है।

Kali Vahan Mandir Etawah
Kali Vahan Mandir Techzinkk

काली वाहन मन्दिर

Raja Sumer Singh Ka Kila

इटावा की तीसरी सबसे फेमस जगह है राजा सुमरे सिंह का किला। यह किला काली वाहन मन्दिर जाने वाले रास्ते पर पड़ता है। यह ऊंची पहाडियों पर स्थित है। पहले इसे पब्लिक के लिये खोला गया था लेकिन इटावा के लोगों द्वारा वहां पर अपराध किये जाने लगे इसलिये सरकार द्वारा इसे पब्लिक के लिये अब बन्द कर दिया गया है। अब यहां पर सिर्फ वी.आई.पी. लोग ही ठहरते हैं। यह किला इटावा की बहुत ऊंची पहाडियों पर बसा हुआ है जहां से पूरा इटावा दिखायी देता है।

CRPF Assistant Commandant Civil Engineer Recruitment 2021

COMPASSIONATE APPOINTMENT IN CRPF

Typing master cracked full version free download

CRPF PAY SLIP KAISE CHECK KARE

राजा सुमेर सिंह का किला वर्ष 2003 में बन चुका था । यह किला 1540 वर्गफुट में बना हुआ है तथा उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण भवन, लखनऊ द्वारा मॉडीफाई कराया गया था। इसके प्रोजेक्ट आर्किटेक्ट श्री के.के. अस्थाना जी थे।

Raja Sumer Singh Ka Kila

Pakka Talab Etawah

पक्का तालाब भी इटावा मे एक बहुत ही चर्चित जगह है। यहां पर सांई बाबा का एक मन्दिर भी है तथा के.के.पी.जी. कॉलेज भी है। यहां प्रत्येक बृहस्तपतिवार को बहुत श्रद्धालुओं की बहुत भीड़ होती है। इसी के पास एक विक्टोरिया हाउस भी है जो बहुत ही कम लोग जानते होंगे। यह एक तालाब है जिसमें पानी भरा रहता है। कुछ समय पहले इस तालाब में सरकार की तरफ से मछलियां भी पाली गयी थी, जो कि अभी भी है। लोग शाम को आकर मछलियों को दाना खिलाते हैं तथा यहां की शाम लोगों को काफी पसन्द है।

Pakka Talab Etawah

Tixxi Temple Etawah

कालीवाहन एवं राजा सुमेर सिंह किला की ओर जाने वाली सड़क पर ही टिक्सी मन्दिर भी स्थापित है। यह मन्दिर भगवान शंकर की शिवलिंग की वजह से चर्चित है। यहां पर भी अनेक श्रद्धालु अपनी मुराद लेकर भगवान के दर्शन करने के लिये आते हैं।

इटावा का टिक्सी टेंपल शहर की सांस्कृतिक धरोहरों में से एक है। यहां पर एक शिवलिंग स्थापित है। इस मंदिर का निर्माण 1780 में पूरा हुआ था तभी से यह मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र बना हुआ है।

पहले यहाँ पर घना जंगल था तब वशिष्ठ मुनि ने यहां पर वशिष्ठेश्वर महादेव की स्थापना की थी। गर्मी के समय में शिवलिंग की टिकरी पर कलश रखकर शिवलिंग पर जल की बूंदे टपकते रहने की व्यवस्था की गयी। यह मंदिर टिकरी रखी जाने से टिकरी वाले मंदिर के नाम से भी मशहूर था, जो अंग्रेजों का दौर आने तक टिक्सी टेंपिल के नाम से जाना जाने लगा।

Tixxi-Temple
Tixxi-Temple

Pilua Mahavir Mandir Etawah

महावीर हनुमान जी का एक मन्दिर इटावा में बहुत प्रसिद्ध है जहां पर श्रद्धालुओँ की बहुत भीड़ रहती है। यह मन्दिर इटावा शहर के लालपुरा क्षेत्र में स्थित है। इटावा जिला में हनुमान जी के ऐसे बहुत ही कम मन्दिर हैं जहां पर इतनी भीड़ होती है। यहां ऐसा मानना है कि हनुमान जी लड्डू खाते हैं और उनके मुंह से राम नाम की आवाज सुनायी देती है। यहां पर हनुमान जी की मूर्ति लेटे हुए हैं।

Pilua Mahavir Mandir Etawah

इसके अतिरिक्त कुछ जगह और भी हैं हां पर आप घूम सकते हैं, जैसे- इटावा की नुमाइश, नगर पालिका चौराहा का फालूदा, कचौराघाट का सांई बाबा का मन्दिर आदि।

इटावा का फालूदा भी कमाल का है और नगर पालिका के पास की दुकानें बहुत ही शानदार हैं।

इटावा में हर साल गर्मी और सर्दी के दौरान में प्रदर्शनी भी लगती है आसपास के स्थानों के लोग भी आते हैं। यहां की सॉफ्टी आइसक्रीम सबसे अच्छी है।

उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

धन्यवाद।

अनुज कुमार
अनुज कुमार

यह पोस्ट अनुज कुमार द्वारा लिखी गयी है जो कि भर्थना चौराहा, इटावा (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले हैं। अनुज वर्तमान में CRPF में कार्यरत् हैं एवं श्रीनगर (जम्मू एवं कश्मीर) में पोस्टेड हैं। ऐसे ही हिंदी में जानकारी के लिये Techzinkk.com पर विजिट करें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *