'मेरा दूसरा प्यार' True Love stories in Hindi 2022

‘मेरा दूसरा प्यार’ True Love stories in Hindi 2022

True Love stories in Hindi : रूही और रोहन एक दूसरे से प्यार करते थे। काफी मनाने के बाद आज दोनों के परिवार ने उनके प्यार को स्वीकार किया और जल्द ही दोनों शादी करेंगे। रोहन के घर में उसकी मां-पिता और एक बहन थी जिसकी शादी हो चुकी थी। वहीं रूही के घर में सिर्फ उसके माता-पिता थे।

आज रोहन रूही की शादी का दिन था दोनों बड़े ही खुश थे और खुश होते भी क्यों न,  उन्होंने जो सपने संजोये थे वे सब आज सच होने जा रहे थे। रोहन – रूही की शादी में एक अहम किरदार शिवम का भी था। शिवम ने भी उन्हें मिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। वह रोहन के लिये उसके भाई जैसा था और रूही भी उसे अपना दोस्त मानती थी।

रूही-रोहन की शादी बड़ी धूम धाम से दोनों परिवारों की मौजूदगी में हुई। दोनों ने सात फेरों के साथ एक कसम और खाई कि वे हमेशा एक दूसरे के साथ रहेंगे और हमेशा एक दूसरे से इतना प्यार करेंगे। इसी वचन के साथ रूही ने रोहन के घर में प्रवेश किया। रोहन का हाथ पकड़कर जब रूही ने रोहन के घर की दहलीज के अन्दर कदम रखा तो रोहन की मां ने उन्हें बड़े ही प्यार से गले लगाया।

Real life love stories in Hindi

रोहन की मां ने रूही को अपनी बेटी की तरह ही रखा। रूही ने भी रोहन के घर को अपने घर की तरह ही अपना लिया था। रूही और रोहन ने अपने प्यार भरे सारे सपने पूरे किये और अपने सपनों का महल बना लिया। दोनों ने मिलकर खुशियों से भरा एक संसार बसा लिया था। वो दोनों बहुत खुश थे। रूही के मन में कभी इस बात का अफसोस नहीं हुआ कि उसने रोहन से शादी करके कोई गलती की है। लेकिन हां उसकी शादी के बाद उसके मायके वालों ने उससे कुछ दूरियां जरूर बना ली थी। रोहन के प्यार ने रूही की जिन्दगी में आई इस कमी को भी पूरा कर दिया था।

True Love stories in Hindi
True Love stories in Hindi

रोहन ने कभी उसे किसी चीज के लिये रोक टोक नहीं की। उसे प्यार और सम्मान दिया जिसकी हर एक औरत को जरूरत होती है। बदले में रूही ने भी अपनी तरफ से वह हर एक कोशिश की थी जो एक पत्नी का कर्तव्य होता है। रोहन के परिवार वाले भी रूही से बहुत प्यार करने लगे थे।

True Love stories in Hindi : रूही ने अपने प्यार व परिवार को बखूबी सम्भाल रखा था। अचानक उनकी हसती खेलती जिन्दगी में एक नया मोड़ आता है। एक दिन अचानक रोहन दिन में ही ऑफिस से घर वापस आता है और रूही से बोलता है – रूही जल्दी मेरा बैग रेडी कर दो। एक हफ्ते के लिये ऑफिस के काम से पुणे जाना है। यह सुनते ही रूही का मूड बिगड़ गया। वह भी रोहन के साथ जाना चाहती थी लेकिन रोहन ने कहा कि वह अपना काम खत्म करके हफ्ते भर में वापस आ जायेगा। रूही ने उसका बैग पैक किया और रूखे मन से रोहन को विदा किया। रूही शादी के बाद पहली बार रोहन से दूर हुई थी इसलिये उसका मूड भी ऑफ हो गया था।

real love stories in hindi

True Love stories in Hindi : रोहन के जाने से रूही उदास हो गई। उसका किसी काम में मन नहीं लग रहा था । जैसे तैसे दो दिन बीत गए वह रोहन को बहुत मिस कर रही थी। अचानक उसे चक्कर आ गये और वो वेहोश हो गयी तो रोहन की मां उसे डॉक्टर के पास ले गई। डॉक्टर ने रूही का चेकअप करने के बाद उसकी मां को बधाई देते हुए कहा-आपके घर मे एक नन्हा मेहमान आने वाला है। यह सुन कर दोनों खुश हो गये और घर वापस आ गये। रूही अब यह खुशखबरी रोहृन को देना चाहती थी। उसने अपना फोन उठाया वह रोहन को फोन करने वाली थी कि वह रुक गई उसके मन में खयाल आया कि वह यह खबर रोहन को फोन पर न देकर जब रोहन घर आएगा तो वह खुद उसे यह बात बताएगी और उसकी आंखों में वह वही खुशी देखना चाहेगी। यह सोच कर रूही ने फोन वापस रख दिया। रूही का मन बैचेन रहने लगा । वह जल्द से जल्द रोहन को यह खुश खबरी देना चाहती थी लेकिन समय तो जैसे ठहर ही गया हो। घड़ी की सुई भी आगे बड़ने का नाम नहीं ले रही थी जैसे-तैसे बाकी के दिन कटे।

आज रोहन पुणे से वापस आ रहा था। रूही बहुत खुश थी उसने रोहन के लिये खीर और उसकी पसंद की खाने की चीजें बनाई थी। वह बेसब्री से रोहन का इन्तजार कर रही थी। तभी रूही के फोन पर शिवम का फोन आया, शिवम ने उसे कहा कि न्यूज में रोहन के गाडी के एक्सीडेंट होने की खबर दिखा रहे हैं। मैंने रोहन को कई बार फोन किया लेकिन उसका फोन स्विच ऑफ आ रहा है। इतना सुनते ही रूही बेहोश गई। शिवम-हैलो रूही तुम सुन रही हो न – कोई उत्तर न मिलने पर शिवम ने फोन रख दिया और रोहन के घर पहुंच गया। रोहन की मां रूही के मुंह पर पानी के छींटे देने लगी ।

love stories in hindi to read

True Love stories in Hindi : रूही को अब होश आ रहा था। तब तक शिवम वहां पहुंच गया। उसने और उसकी मां ने उसे संभाला और शिवम यह कह कर निकल गया कि वो एक्सीडेंट स्पॉट पर जा रहा है। रूही अभी भी रोहन को फोन कर रही थी लेकिन फोन ऑफ  जा रहा था। वह रोहन के फोन का इन्तजार करने लगी। उसका दिल जोर-जोर से धड़क रहा था। न जाने कितने खयाल उसके मन में उमड़ रहे थे। वह उदास होकर कमरे में बैठ गई। तभी घर का दरवाजा किसी ने खटखटाया, वह दौड़ कर दरवाजा खोलने गई। उसे लगा कि रोहन वापस आया होगा लेकिन ऐसा नहीं था दरवाजे पर शिवम आंखों में आंसू लिये खड़ा था।

घर आकर शिवम ने रोहन की मौत पर मुहर लगा दी। रूही को यकीन ही नहीं हो रहा था कि रोहन उसे ऐसे अचानक और इस स्थिति में छोड़ कर चला जायेगा।

रूही को इस बात का बड़ा अफसोस हो रहा था कि रोहन को उस नन्हीं सी जान के बारे में बता भी नहीं पाई थी। रूही ने कभी भी नहीं सोचा था कि रोहन के बगैर उसे अपनी जिन्दगी काटनी पडेगी। रूही रोहन के बिना बिल्कुल अकेली पड़ गई थी। उसे लगने लगा था जैसे उसकी जिन्दगी कुछ नहीं बचा है। रूही अब एक कमरे में अकेले उदास बैठी रहती थी। रूही की ऐसी हालत देखकर रोहन की मां भी काफी परेशान थी तो उसने रूही को समझाया कि अब वह अपनी जिन्दगी अपने आने वाले बच्चे के लिये जिए। जैसे तैसे रूही के दिन कटे और वह अपनी जिन्दगी से कुछ संभली तो शिवन में उसे रोहन के ऑफिस में बात करके जॉब दिला दी। रोहन के मां-बाप की जिम्मेदारी भी अब रूही पर आ गयी थी।

Love Stories in Hindi

धीरे –धीरे वह दिन भी आ गया जब रूही ने एक सुन्दर सी बच्ची को जन्म दिया। शिवम ने उसका नाम मीठी रखा। रोहन की मौत के बाद शिवम ने ही रूही को सहारा दिया। उसने ही रूही को ऑफिस व परिवार दोनों को सम्भालने में मदद की थी। अगर शिवम नहीं होता तो रूही अकेले शायद ये सब नहीं संभाल पाती। ऑफिस से आने के बाद शिवम अपना पूरा ध्यान व समय मीठी को देता था। लेकिन रोहन की मां को शिवम का मीठी से इतना लगाव बिल्कुल पसन्द नहीं था।

Love Stories in Hindi
Love Stories in Hindi

धीरे-धीरे दिन भी सालों में परिवर्तित होने लगे। मीठी का अब स्कूल में एडमीशन कराने का समय आ गया था। उस वक्त भी शिवम मीठी के साथ था। मीठी ने कभी अपने पापा को तो नहीं देखा था परन्तु शिवम ने कभी मीठी की जिन्दगी में उसके पापा की कमी महसूस नहीं होने दी थी। रूही अक्सर सोचती थी कि अगर रोहन होते तो वो भी मीठी को इसी तरह चाहते।

मीठी भी बचपन से ही शिवम को शिवम पापा कहकर बुलाती थी। शिवम ने ही उसे यह अधिकार दिया था। रूही भी अब शिवम को बखूबी समझने लगी थी उसकी फीलिंग्स से रूही भी अपरचित नहीं थी। लेकिन रूही अपनी जिन्दगी रोहन की जगह किसी से बांटना नहीं चाहती थी। शिवम ने भी कभी रूही से कुछ कहा नहीं था। रोहन की मां शायद शिवम की भावनाओँ को समझ रही थी इसीलिए वो शिवम को कई बार कह चुकी थी अब तुम शादी कर लो – तो वह हंस कर टाल देता था।

Short true love stories in Hindi

एक दिन रूही ऑफिस में काम कर रही थी तो शिवम की मां रूही से बात करने उसके ऑफिस आ गई। रूही ने उसकी मां को बैठने को कहा और दो चाय ऑर्डर की। रूही को आभास था कि शिवम की मां उससे क्या कहना चाहती है। उसने कहा बोलिए आंटी, आप यहां मुझसे मिलने आई सब ठीक तो है न। तो शिवम की मां ने कहा शिवम ने शादी करने से मना कर दिया है उसे समझाओ। पता नहीं उसके मन में क्या चल रहा है। उसे पूंछो कि वह शादी क्यों नहीं करना चाहता है। आखिर मेरे भी तो उसकी शादी के लिये कुछ सपने हैं। रूही तुम समझ रही हो न। तुम उससे बात करोगी ना।

उसकी मां ने चाय पीते-पीते कहा। तो रूही ने हां में सिर हिलाया। शिवम की मां वहा से चली गयी। लेकिन रूही खामोश खोई से बैठी रही न जाने क्यों शिवम की शादी की बात सुनकर उसे कुछ अजीब सा लगा। वह समझ नहीं पा रही थी ऐसा क्यों हो रहा है। वह अपनी उलझनों में उलझती हुई घर पहुंची। शाम को शिवम भी ऑफिस से घर आकर मीठी के साथ खेलने लगा तो रूही ने किचन में जाकर चाय बनाई। चाय दो कप में डालकर वह शिवम के सामने गई। वहां शिवम और मीठी एक दूसरे से साथ बहुत खुश थे। दोनों के प्यार को देखकर उसे इस बात की संतुष्टि थी कि मीठी उसे पापा की जगह दे चुकी है। रूही ने शिवम से कहा कि शिवम एक बात पूंछूं। हां, शिवम ने उसे देखते हुए कहा। देखो आज तुम्हारी मां मेरे ऑफिस में आयी थी। शिवम अब तुम्हें शादी कर लेनी चाहिए। अब तुम्हें अपनी मां की बात मानकर सैटल हो जाना चाहिए। आखिर कब तक तुम हमें सम्भालोगे। रूही ने एक साथ ही कह दिया।  शिवम से नजर न मिलाते हुए रूही फिर बोली मान जाओ अब शादी कर लो।

शिवम बोला कि अगर मैं कहूं कि मैं किसी और से प्यार करता हूं उसी से शादी करुंगा। तुम इतनी बेवकूफ तो नहीं हो जो मेरे जज्बातों को समझ न पाओ। पहली बार रूही ने शिवम का ये रूप देखा था। क्या हुआ कुछ बोलो रूही। रूही ने कहा तुम जानते हो मैं ऐसा नहीं कर सकती। शिवम ने कहा तुम्हारा यही फैसला है तो मेरी भी सुन लो मैं सारा जीवन तुम्हारा इन्तजार करूंगा लेकिन तुम्हारे सिवा किसी को अपनी जिन्दगी में शामिल नहीं कर पाउंगा। यह कहकर वह चला गया।

True sad love stories in Hindi

घड़ी की सुई न तो किसी के लिये रुकती है न रुकेगी। समय भी बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा  था । अब तो मीठी भी इतनी बड़ी हो गई थी कि शिवम के जज्बातों को समझ सके। शिवम की मां और रूही की सास ने भी कुछ भी कहना बन्द कर दिया था। शिवम की सहनशक्ति के आगे दोनों ने घुटने टेक दिये थे। पता नहीं रूही और शिवम किस डोर से बंधे हैं। इतने पास रहते हुए भी दोनों ने कभी अपनी मर्यादा को नहीं तोडा और सफलता पूर्वक रिश्ते की साझेदारी बंधी रही।

एक दिन सुबह रूही ऑफिस के लिये तैयार हो रही थी कि मीठी के एक प्रश्न ने उसे आश्चर्य कर दिया, वह बोली- मां, आप क्यों नहीं थाम लेती शिवम पापा का हाथ वे आपसे और मुझसे कितना प्यार करते हैं। यह बात तुम्हें समझ क्यों नहीं आ रही। रूही बिना जबाव दिये ऑफिस चली गयी।

यह भी पढ़ें- बेटे और पिता की कहानी Son Father Story in Hindi Latest 2022

इस रविवार मीठी ने मूवी देखने का प्लान बनाया। शिवम और मीठी को शॉपिंग भी करनी थी लेकिन रूही ने जाने से मना कर दिया। तो मीठी की जिद करने पर वह मूवी के लिये हां कर देती है। शिवम और मीठी पहले शॉपिंग के लिये निकल जाते हैं। रूही बाद में सीधा सिनेमा हॉल पहुंचेगी।

मीठी और शिवम शॉपिंग के लिये मार्केट निकल जाते हैं तो रूही अपने काम में लग जाती है तो अचानक मीठी का फोन आया वह बोली मां शिवम पापा का एक्सीडेंट हो गया है। यह कहकर रोने लगी। रूही भाग कर उस पते पर पहुंची जहां मीठी ने बताया था। जैसे ही वो अस्पताल पहुंची उसने देखा शिवम बैड पर लेटा है। वह दौड़ कर शिवम से लिपट गई और रोने लगी। शिवम और मीठी ने पहली बार उसके इस प्यार को देखा था। तो शिवम ने बोला रूही मैं ठीक हूं मुझे सिर्फ थोड़ी सी ही चोट आई है। शिवम ने रूही को गले लगाया तो मीठी भी दौड़ कर पास जाकर लिपट गई और बोली मां आज मुझे मां और पापा दोनों मिल गये।

True Love stories in Hindi

दो दिन तक शिवम का इलाज उसी अस्पताल में चला। रूही ने दो दिन उसकी देखभाल की और शिवम जल्दी ही सही होकर घर पहुंच गया। घर पहुंचकर शिवम ने रूही से पूंछा कि क्या वह उससे शादी करेगी। कुछ पल ठहर कर रूही ने ‘हां’ में जबाव दिया। उसने सोचा कि वह समय के साथ अपनी बच्ची के लिये अपनी जिन्दगी में आगे बढे़गी और शिवम का हाथ थाम कर वह एक नई जिन्दगी की शुरूआत करेगी।

शिवम ने घर जाकर यह बात अपनी मां को बताई कि रूही उससे शादी करने के लिये तैयार हो गई है। शिवम की मां यह खबर सुनकर बहुत खुश हुई। आखिरकार उसका बेटा अब अपने प्यार को पाने में सफल हो गया था। शिवम की मां अपने बेटे के लिये रूही का हाथ मांगने रूही के घर गई तो रूही की मां ने भी इस रिश्ते को स्वीकार किया। मीठी भी इस शादी से काफी खुश थी। वो तो पहले से ही शिवम को अपना पापा मानती थी। दोनों परिवारों ने मिल कर एक मंदिर में रूही -शिवम की शादी करा दी। रूही की जिन्दगी में वो सारी खुशियां शिवम के आने से वापस आ गयी थी। रूही ने मीठी और शिवम के साथ एक बार फिर अपना हंसता खेलता परिवार बना लिया था।

-साक्षी शाक्या

Other PostsUseful Links
BSF driver recruitment 2021CRPF driver recruitment 2021 – Duties and Salary full details
CRPF All Post and Salary with Categorहाईटेंशन लाईन के तार में से आवाज क्यों आती है?y detailsSurekha Sikri biography in hindi – Balika Badhu Actress death
CRPF All Post and Salary with Category detailsBest Smoothie Cafe in Etawah Gokool Smoothie Cafe
CRPF कब किसी का एनकाउंटर कर सकती है ?How to make grid photos on Instagram
Best Photo Studio in Etawah for Pre Wedding ShootCRPF ASSISTANT COMMANDANT JOB PROFILE
CRPF Assistant Commandant Civil Engineer Recruitment 2021CRPF PAY SLIP KAISE CHECK KARE
CRPF PAY SLIP KAISE CHECK KARETop 5 Places to Visit in Etawah Best Tourist Places in Etawah
Typing master cracked full version free downloadCOMPASSIONATE APPOINTMENT IN CRPF

Our other website : https://iphonexruserguide.net

True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi True Love stories in Hindi

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *